जब शिव का मंन डोल गया था

image

पुण्याक्षी एक अत्यंत ज्ञानी स्त्री और भविष्यवक्‍ता थी, जो भारत के दक्षिणी सिरे पर रहती थीं। उनमें शिव को पाने की लालसा पैदा हो गई या कहें कि उन्हें शिव से प्रेम हो गया और वह उनकी पत्नी बनकर उनका हाथ थामना चाहती थीं। उन्होंने फैसला किया कि वह शिव के अलावा किसी और से विवाह नहीं करेंगी। इसलिए, पुण्याक्षी ने शिव का ध्यान आकर्षित करने के लिए अपने आप को उनके योग्य और उपयुक्त बनाना शुरू कर दिया। वह अपने जीवन का प्रत्येक क्षण पूरी तरह उनके ध्यान में बितातीं, उनकी भक्ति ने सभी सीमाएं पार कर लीं और उनकी तपस्या पागलपन की हद तक पहुंच गई।

उनके प्रेम की तीव्रता को देखते हुए, शिव प्रेम और करूणा से विचलित हो उठे। उनके हृदय में भी पुण्याक्षी से विवाह करने की इच्छा जागी। परंतु जिस समाज में पुण्याक्षी रहती थी, उन लोगों को चिंता होने लगी। उन्हें लगा कि विवाह के बाद पुण्याक्षी भविष्यवाणी करने की अपनी क्षमता खो देंगी और उनका मार्गदर्शन करने के लिए उपलब्ध नहीं होंगी। इसलिए उन्होंने इस विवाह को रोकने की हर संभव कोशिश की। लेकिन पुण्याक्षी अपने इरादे पर दृढ़ रहीं और शिव के प्रति अपनी भक्ति जारी रखी।

परंतु समुदाय के बुजुर्गों ने उन्हें रोक कर कहा, “यदि आप इस कन्या को अपनी पत्‍नी बनाना चाहते हैं, तो आपको कुछ शर्तें माननी होंगी। आपको हमें वधू का मूल्य देना होगा।”

शिव ने भी बदले में करूणा दिखाई और उनके विवाह की तिथि तय हो गई। वे भारत के दक्षिणी छोर की ओर चल पड़े। लेकिन पुण्याक्षी के समुदाय के लोग उनके विवाह के खिलाफ थे, इसलिए उन्होंने शिव से गुहार लगाई, “हे शिव, यदि आप उससे विवाह कर लेंगे, तो हम अपना इकलौता ज्ञानचक्षु या पथ-प्रदर्शक खो देंगे। कृपया आप उससे विवाह न करें।” लेकिन शिव उनकी बात सुनने को तैयार नहीं थे और उन्होंने विवाह के लिए अपनी यात्रा जारी रखी।

परंतु समुदाय के बुजुर्गों ने उन्हें रोक कर कहा, “यदि आप इस कन्या को अपनी पत्‍नी बनाना चाहते हैं, तो आपको कुछ शर्तें माननी होंगी। आपको हमें वधू का मूल्य देना होगा।”

शिव ने पूछा, “वधू का मूल्य क्या है? वह जो भी हो, मैं आप लोगों को दूंगा।”

फिर उन्होंने तीन चीजों की मांग की जो शिव को वधू मूल्य के रूप में देना था, “हम बिना छल्‍लों वाला एक गन्ना, बिना धारियों वाला एक पान का पत्ता, और बिना आंखों वाला एक नारियल चाहते हैं। आपको यही वधू मूल्य देना है।”

ये सभी वस्तुएं अप्राकृतिक हैं। गन्ना हमेशा छल्लों के साथ आता है, बिना धारियों का कोई पान का पत्ता नहीं होता और आंखों के बिना कोई नारियल नहीं हो सकता। यह एक असंभव वधू मूल्य था जो विवाह रोकने का अचूक तरीका था।

शिव ने पूछा, “वधू का मूल्य क्या है? वह जो भी हो, मैं आप लोगों को दूंगा।”

लेकिन शिव को पुण्याक्षी से बहुत प्रेम था और वह किसी भी कीमत पर उससे विवाह करना चाहते थे। इसलिए, उन्होंने अपनी तंत्र-मंत्र की शक्ति और अपनी चमत्कारी क्षमताओं का इस्तेमाल करते हुए इन तीनों वस्तुओं की रचना कर दी। उन्होंने अन्यायपूर्ण और असंभव वधू मूल्य को चुकाने के लिए प्रकृति के नियमों को तोड़ दिया। इन मांगों को पूरा करने के बाद, वह विवाह के लिए फिर से आगे बढ़ने लगे।

लेकिन फिर समुदाय के बुजुर्गों ने शिव के सामने एक आखिरी शर्त रखी। उन्होंने कहा, “आपको कल सुबह का सूरज उगने से पहले विवाह करना होगा। यदि आप देर से आए, तो आप उस कन्या से विवाह नहीं कर सकते।”

यह सुनने के बाद, शिव तेजी से आगे बढ़ने लगे। उन्हें यकीन था कि वह समय पर पुण्याक्षी के पास पहुंच जाएंगे। समुदाय के बुजुर्गों ने देखा कि शिव उन सभी असंभव शर्तों को पार करते जा रहे हैं, जो उन्होंने तय की थी और वह अपना वादा पूरा कर लेंगे। फिर उन्हें चिंता होने लगी।

अपने सफर पर जल्दी-जल्दी आगे बढ़ते हुए शिव विवाह स्थल से कुछ ही किलोमीटर दूर रह गए थे। यह जगह आज सुचिंद्रम के नाम से जाना जाता है। यहां पर उन बुजुर्गों ने अपना आखिरी दांव खेला, उन्होंने एक नकली सूर्योदय का आभास पैदा करने की सोची। उन्होंने कपूर का एक विशाल ढेर लगाया और उसमें आग लगा दी। कपूर की अग्नि इतनी चमकीली और तीव्र थी कि जब शिव ने कुछ दूरी से उसे देखा, तो उन्हें लगा कि सूर्योदय हो गया है और वह अपना लक्ष्य पूरा नहीं कर पाए। वह बहुत नजदीक, सिर्फ कुछ किलोमीटर दूर थे, लेकिन उनके साथ छल करते हुए उन्हें यह सोचने पर मजबूर कर दिया गया कि समय पूरा हो गया है और वह पुण्याक्षी से किया अपना वादा पूरा नहीं कर पाए।

पुण्याक्षी इस बात से पूरी तरह अनजान थीं कि उनका समाज इस विवाह को रोकने की कोशिशें कर रहा है, वह शिव के साथ अपने भव्य विवाह की तैयारी में जुटी थीं। जब आकाश में असली सूर्योदय हुआ, तब उन्हें महसूस हुआ कि शिव नहीं आ रहे हैं। वह क्रोधित हो उठीं। उन्होंने जश्न की तैयारी के लिए बनाए गए भोजन से भरे सभी बरतनों को पांव की ठोकर से तोड़ दिया और गुस्से में भूमि के सिरे पर जाकर खड़ी हो गईं। वह एक सिद्ध योगिनी थीं, उन्होंने इस उपमहाद्वीप के आखिरी सिरे पर खड़े-खड़े अपना शरीर त्याग दिया। आज भी उस स्थान पर एक मंदिर है, जहां उन्होंने अपना शरीर त्यागा था और उस स्थान को कन्याकुमारी के नाम से जाना जाता है।
दक्षिण के एक मित्र से सुनी हुई कहानी है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s